Hindi Jokes on Teacher, Amit bahut Shaitan tha

और Beta पढाई कैसी चल रही है
बस अंकल
चलते चलते बहुत दूर चली गई मुझ से!! 😜 😜

School College Jokes Hindi, Aur Beta Padhai Kesi
School College Jokes Hindi, Aur Beta Padhai Kesi

टीचर :- देश के सबसे ईमानदार पुलिसवाले कहा पर पाए जाते है??
पप्पू :- सावधान इंडिया और क्राइम पेट्रोल !


पप्पू की हुई मास्टर से लड़ाई
मास्टर ने की पप्पू की पिटाई
पप्पू का गरम हुआ खून..
गया कब्रिस्तान और मास्टर की..
फोटो टांग के लिख दिया..
COMING SOON!!


टीचर :- राजू तुम किस लिए कॉलेज आते हो.
छात्र :- विद्या के लिए सर.
टीचर :- तो आज तुम सो क्यों रहे हो.
छात्र :- आज विद्या नहीं आई है सर!


टीचर ने छात्रों से पुछा।
टीचर: एक बात बताओ, तुम पढाई में ध्यान क्यों नहीं देते?
एक छात्र: क्योंकि पढाई सिर्फ दो वजहों से की जाती है।
1st डर से
2nd शौख़ से और,
फालतू के शौख हम रखते नहीं और
डरते तो किसी के बाप से नहीं।


अध्यापक :- “भाईचारा” शब्द का प्रयोग करते हुए कोई वाक्य बनाओ।
चिंटू :- मैंने दूध वाले से पूछा..
तुम दूध इतना महंगा क्यों बेचते हो
तो वह बोला भाई चारा महंगा हो गया है।
दे थप्पड़ दे थप्पड़ 😀 😛


अध्यापक : बच्चों, रामचंद्र ने समुन्द्र पर पुल बनाने का निर्णय लिया ।
पप्पू : सर मैं कुछ कहना चाहता हूँ।
अध्यापक : कहो बेटा ।
पप्पू : रामचन्द्र का पुल बनाने का निर्णय गलत था ।
अध्यापक : वो कैसे ?
पप्पू : सर उनके पास हनुमान थे जो उड़कर लंका जा सकते थे । तो उनको पुल बनाने की कोई जरुरत ही नही थी ।
अध्यापक : हनुमान ही तो उड़ना जानते थे बाकि रीछ और वानर तो नही उड़ते थे ।
पप्पू : सर वो हनुमान की पीठ पर बैठकर जा सकते थे । जब हनुमान पूरा द्रोणागिरी पहाड़ उठाकर ले जा सकते थे, तो वानर सेना को भी तो उठाकर ले जा सकते थे ।
अध्यापक : भगवान की लीला पर सवाल नही उठाया करते नालायक।
पप्पू : वैसे सर एक उपाय और था।
अध्यापक : (गुस्से में) ..क्या ?
पप्पू : सर हनुमान अपने आकार को कितना भी छोटा बड़ा कर सकते थे, जैसे सुरसा के मुँह से निकलने के लिए छोटे हो गए थे और सूर्य को मुँह में देते समय सूर्य से भी बड़े.. तो वो अपने आकार को भी तो समुन्द्र की चौड़ाई से बड़ा कर सकते थे और समुन्द्र के ऊपर लेट जाते। सारे बंदर हनुमान जी की पीठ से गुजरकर लंका पहुँच जाते और रामचंद्र को भी समुन्द्र की अनुनय विनय करने की जरुरत नही पड़ती ।
वैसे सर एक बात और पूछूँ ?
अध्यापक : पूछो ।
पप्पू : सर सुना है । समुन्द्र पर पुल बनाते समय वानरों ने पत्थर पर “राम” नाम लिखा था.. जिससे वो पत्थर पानी पर तैरने लगे थे ।
अध्यापक : हाँ तो ये सही है ।
पप्पू : सर सवाल ये है, बन्दर भालुओं को पढ़ना लिखना किसने सिखाया था ?
अध्यापक : हरामखोर पाखंडी, बंद कर अपनी बकवास और मुर्गा बन जा ।
पप्पू : सर सदियोंसे हम सब मूर्ख बनते आ रहे हैं.. चलो आज मुर्गा बन जाता हूँ..!!